Thursday, August 10, 2006

पैग़ाम लिखा

सावन के बादल ने जब भी धरती को पैग़ाम लिखा,
मेरे हक में काली रातें, सूरज तेरे नाम लिखा।

तेज़ हवाएँ, भीगा पर्वत, दरिया-बहते–झरनों पर,
उजली-उजली सुबह लिखी है, तन्हा–तन्हा शाम लिखा ।

गुलशन-गुलचे, टहनी-टहनी, नाज़ुक –नाज़ुक फूल खिले,
भीगे पत्तों पर मौसम ने, तुझको एक सलाम लिखा।

चंचल-शोख हवाएँ दिन भर नग़मों को दुहराती हैं,
बारिश की बूँदों ने, तुझ पर सौ-सौ बार कलाम लिखा ।

शम्मा के रौशन चेहरे पर सच्ची-सच्ची बात लिखी,
उल्फ़त का मज़मून लिखा है, चाहत का अंजाम लिखा।



***********************
By- www.srijangatha.com
***********************

2 comments:

rajesh said...

Its a very good Poetry. A lot of Thanks & good wishes to the poet.

rajesh sharma
Scientist, NIC, Budaun

talent said...

so nicee....